Latest News

आज की आवश्यकता, जनसंख्या पर नियंत्रण

देवेश प्रताप सिंह राठौर 
(वरिष्ठ पत्रकार  )

आज भारत में जनसंख्या नियंत्रण की बहुत ही जरूरत है जिस तरह से जनसंख्या का बढ़ना हो रहा है वह आज की स्थिति को देखते हुए लगता है कि अगर इस पर नियंत्रण करके कोई कानून या बिल पास ना हुआ तो आगे चलकर बहुत ही कठिन स्थिति उत्पन्न होगी । जिसे संभालना सरकार के लिए कठिनाई उत्पन्न होगी हमारे देश की विडंबना यह है कि जहाँ एक तरफ मानव आबादी तेजी से बढ़ रही है वही दूसरी ओर जानवरों और पक्षियों गब की जनसंख्या दिन प्रतिदिन कम हो रही है। अपनी जरूरतों को पूरा करने के प्रयास में जंगली जानवरों के लिए आश्रय के रूप में सेवा करने वाले जंगलों को भी इंसान काट रहे हैं। इसके कारण पशुओं और पक्षियों की कई प्रजातियां प्रभावित हुई हैं। बढ़ते यातायात और विभिन्न उद्योगों की स्थापना के कारण बढ़ता प्रदूषण जीवों की आबादी में कमी का एक और कारण है। इसकी ही वजह से मौसम पर नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है। विश्व की आबादी बहुत तेजी से बढ़ रही है। पिछले पांच से छह दशकों में विशेष रूप से मानव आबादी में जबरदस्त वृद्धि देखी गई है। इसके पीछे कई कारण हैं। इसके लिए मुख्य कारणों में से एक चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में विकास है जिसने मृत्यु दर को घटा दिया है। एक और कारण विशेष रूप से गरीब और विकासशील देशों में बढ़ती जन्म दर है। शिक्षा का अभाव और परिवार नियोजन की कमी इन देशों में उच्च जन्म दर के लिए शीर्ष कारणों में से एक है।
 किसी भी देश में जब जनसंख्या विस्फोटक स्थिति में पहुँच जाती है तो संसाधनों के साथ उसकी ग़ैर-अनुपातित वृद्धि होने लगती है, इसलिये इसमें स्थिरता लाना ज़रूरी होता है। संसाधन एक बहुत महत्त्वपूर्ण घटक है। भारत में विकास की गति की अपेक्षा जनसंख्या वृद्धि दर अधिक है। संसाधनों के साथ क्षेत्रीय असंतुलन भी तेज़ी से बढ़ रहा है। दक्षिण भारत कुल प्रजनन क्षमता दर यानी प्रजनन अवस्था में एक महिला कितने बच्चों को जन्म दे सकती है, में यह दर क़रीब 2.1 है जिसे स्थिरता दर माना जाता है। लेकिन इसके विपरीत उत्तर भारत और पूर्वी भारत, जिसमें बिहार, उत्तर प्रदेश, ओडिशा जैसे राज्य हैं, इनमें कुल प्रजनन क्षमता दर चार से ज़्यादा है। यह भारत के भीतर एक क्षेत्रीय असंतुलन पैदा करता है। जब किसी भाग में विकास कम हो और जनसंख्या अधिक हो, तो ऐसे स्थान से लोग रोज़गार तथा आजीविका की तलाश में अन्य स्थानों पर प्रवास करते हैं। किंतु संसाधनों की सीमितता तथा जनसंख्या की अधिकता तनाव उत्पन्न करती है, विभिन्न क्षेत्रों में उपजा क्षेत्रवाद कहीं न कहीं संसाधनों के लिये संघर्ष से जुड़ा हुआ है।
  भारत की तेजी से बढ़ती जनसंख्‍या को लेकर हमने आपसे पूछा था कि क्‍या देश में जनसंख्‍या नियंत्रण के लिए चीन की तरह ही सख्‍त कानून बनाना चाहिए। ई-मेल और फेसबुक के जरिये बहुत से लोगों ने इस विषय पर अपनी राय रखी है। जानिये रीडर्स ब्‍लॉग में इस मुद्दे पर पब्लिक की बेबाक राय।
  आज विश्व की जनसंख्या सात अरब से ज्यादा है। अकेले भारत की जनसंख्या लगभग 1 अरब 35 करोड़ के आसपास है। भारत विश्व का दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। आजादी के समय भारत की जनसंख्या 33 करोड़ थी जो आज चार गुना तक बढ़ गयी है। परिवार नियोजन के कमजोर तरीकों, अशिक्षा, स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के अभाव, अंधविश्वास और विकासात्मक असंतुलन के चलते आबादी तेजी से बढ़ी है। संभावना है कि 2050 तक देश की जनसंख्या 1.6 अरब हो जायेगी। फिलहाल भारत की जनसंख्या विश्व जनसंख्या का 17.5 फीसद है। भूभाग के लिहाज के हमारे पास 2.5 फीसद जमीन है। 4 फीसद जल संसाधन है। जबकि विश्व में बीमारियों का जितना बोझ है, उसका 20 फीसद अकेले भारत पर है। वर्तमान में जिस तेज दर से विश्व की आबादी बढ़ रही है उसके हिसाब से विश्व की आबादी में प्रत्येक साल आठ करोड़ लोगों की वृद्धि हो रही है और इसका दबाव प्राकृतिक संसाधनों पर स्पष्ट रूप से पड़ रहा है। इतना ही नहीं, विश्व समुदाय के समक्ष माइग्रेशन भी एक समस्या के रूप में उभर रहा है क्योंकि बढ़ती आबादी के चलते लोग बुनियादी सुख−सुविधा के लिए दूसरे देशों में पनाह लेने को मजबूर हैं। आज विश्व की जनसंख्या सात अरब से ज्यादा है। अकेले भारत की जनसंख्या लगभग 1 अरब 35 करोड़ के आसपास है। भारत विश्व का दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। आजादी के समय भारत की जनसंख्या 33 करोड़ थी जो आज चार गुना तक बढ़ गयी है। परिवार नियोजन के कमजोर तरीकों, अशिक्षा, स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के अभाव, अंधविश्वास और विकासात्मक असंतुलन के चलते आबादी तेजी से बढ़ी है। संभावना है कि 2050 तक देश की जनसंख्या 1.6 अरब हो जायेगी । फिलहाल भारत की जनसंख्या विश्व जनसंख्या का 17.5 फीसद है। भूभाग के लिहाज के हमारे पास 2.5 फीसद जमीन है। 4 फीसद जल संसाधन है। जबकि विश्व में बीमारियों का जितना बोझ है, उसका 20 फीसद अकेले भारत पर है। वर्तमान में जिस तेज दर से विश्व की आबादी बढ़ रही है उसके हिसाब से विश्व की आबादी में प्रत्येक साल आठ करोड़ लोगों की वृद्धि हो रही है और इसका दबाव प्राकृतिक संसाधनों पर स्पष्ट रूप से पड़ रहा है। इतना ही नहीं, विश्व समुदाय के समक्ष माइग्रेशन भी एक समस्या के रूप में उभर रहा है क्योंकि बढ़ती आबादी के चलते लोग बुनियादी सुख−सुविधा के लिए दूसरे देशों में पनाह लेने को मजबूर हैं।जनसंख्या का नियंत्रण हर हाल में भारत सरकार को इसके लिए बिल पास करना चाहिए और ऐसा ही एक सख्त कानून बनाना चाहिए जो जनसंख्या को रोकने में सक्षम हो ।

No comments