Latest News

लेखपाल अधिकार के लिये डटे धरने पर

फतेहपुर, शमशाद खान । उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ द्वारा अपनी मागो को लेकर किये जा रहे आन्दोलन के क्रम में चैथे दिन भी प्रान्तीय नेतृत्व के आहवान पर लेखपालों ने अनिश्चित कालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार कर गर्म जोशी के साथ लेखपाल हडताल पर डटे रहे और प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लेखपालों ने जल्द से जल्द शासनादेश जारी किये जाने की मांग उठायी। 
सदर तहसील में धरना देते लेखपाल। 
शुक्रवार को उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ उप शाखा सदर के जिलाध्यक्ष कधईलाल पाल की अगुवई में समस्त लेखपालों ने तहसील प्रांगण में चैथे दिन भी धरने पर डटे रहे। पूर्ण कार्य बहिष्कार का कार्यक्रम के तहत लगातार धरना जारी है। धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि एसीपी विसंगति, वेतन उच्चीकरण, प्रोन्नति काडर रिव्यू, पेंशन विसंगति, भत्ते, लेखपाल का पदनाम परिवर्तन, राजस्व निरीक्षक सेवा नियमावली 2018 प्रख्यापित किये जाना व प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि मध्य प्रदेश की भांति 18 रूपये प्रति खाता इंसेन्टिव हेतु लेखपालों को दिये जाने को लेकर शासन द्वारा सहमति तो बन गयी लेकिन शासनादेश जारी नहीं किया जा रहा है। जिसको लेकर लेखपालों में खासी नाराजगी है। वक्ताआंे ने कहा कि लेखपाल अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। जब तक यह लड़ाई अन्तिम चरण तक नहीं पहंुच जाती तब तक लेखपालों का संघर्ष जारी रहेगा। लेखपालों ने धरनास्थल पर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर जहर उगला। धरने का संचालन तहसील जिला मंत्री बीरेन्द्र सिंह ने किया। इस मौके पर वीरेन्द्र सिंह, ज्ञान सिंह, रमेश चन्द्र पटेल, विशोक कुमार, हरि गोबिन्द सिंह, विवेक कुमार तिवारी, अशोक कुमार सिह दिनेश सिंह, सूर्यबली, भोला प्रसाद, विवेक तिवारी, केदारनाथ अवस्थी, अजय पाल मौर्य, संतोष कुमार, धर्मेन्द्र कुमार, अमित कुमार, सपना शर्मा, रामनरेश निषाद, आशुतोष सिंह, अजय पाल मौर्य, सोनी देवी, मंगला प्रसाद, तेजपाल सिह, अनुराग बाजपेई कल्पना देवी, जया तिवारी, आदि मौजूद रहे। 

No comments