Latest News

क्रान्तिधर्मी साहस का साक्षी काकोरी काण्ड

देशभक्तों से युवाओं को लेना चाहिये प्रेरणा

हमीरपुर, महेश अवस्थी । मुख्य अतिथि डाॅ सुरेन्द्र गुप्ता ने कहा कि भारत की आजादी में बलदानियों की एक अलम भूमिका रही है। आज के युवओं को शहीदों के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिये। भारतीय आजादी की प्राप्ति में क्रान्तिकारियों का सर्वाधिक योगदान रहा है। वे केबी शिवहरे महाविद्यालय सिसोलर में काकोरी काण्ड के ति पर बोल रहे थे। डाॅ भवानीदीन ने कहा कि पण्डित रामप्रसाद बिस्लिम, अश्फाक उल्ला, रोशन सिंह, राजेन्द्र लहड़ी जैसे क्रान्तिकारियों को अपनी मात्रदेवी संस्था के माध्यम से युवाओं को जोड़कर देशभक्त बनाते थे। जिन्हें क्रान्तिकारियों का द्रोड़ाचार्य कहा जाता था। झण्डूलाल के बेटे सुभाषचन्द्र ने सूरमाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। स्थानीय सेनानी शिवनारायण सिंह तथा मेड़ेलाल के शिवबालक सिंह, सतीश कुमार सिंह ने देशभक्तों के बारे में कहा कि वे आजादी के निर्माण में नीव का पत्थर थे। डाॅ लालता प्रसाद, डाॅ श्याम नारायण, सुरेश सोनी, राज किशोर पाल, गणेश शिवहरे ने विचार रखे। संचालन डाॅ रमाकान्त पाल कर रहे थे। 

शहीदों की पुण्य स्मृ

No comments