Latest News

पौष अमावस्या में चार लाख श्रद्धालुओं के आने की संभावना

डीएम ने अधिकारियों को सौपी जिम्मेदारी

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में आगामी पौष मास की अमावस्या 26 दिसम्बर को है। जिसका मेला 25 से 27 दिसम्बर तक चलेगा। उन्होंने मेला सकुशल सम्पन्न कराने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिये कि लगभग 3 से 4 लाख तीर्थयात्रियों के आने की संभावना है। मेला क्षेत्र का तीन जोन व 12 सेक्टर में बांटा गया है। उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत न हो। उन्होंने कहा कि मेला को सम्पन्न कराने के लिये जोनल मजिस्ट्रेट, रिजर्व जोनल मजिस्ट्रेट, सेक्टर मजिस्ट्रेट, रिजर्व सेक्टर मजिस्ट्रेट
लगाये गये हैं। रामघाट पर मंदाकिनी नदी के पानी को स्वच्छ रखने के उद्देश्य से रामघाट व आसपास दुकानदारो द्वारा शैम्पू, साबुन, तेल, पालीथीन की बिक्री व प्रयोग की रोकथाम के लिये भी अधिकारियों की ड्यिूटी रहेगी। बाल श्रम की सम्भावना को दृष्टिगत रखते हुये अधिकारियों को तैनाती की गयी है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जब तक प्रतिस्थानी नही आ जाते हैं तब तक ड्यिूटी स्थल न छोडें। जलेबी वाली गली में अतिक्रमण न हो। अधिशाषी अभियंता विद्युत टीम लगाकर जांच करायें। एक्सईएन सिंचाई निर्माण खण्ड मंदाकिनी नदी में बैरीकेटिंग अवश्य करा दें। कहा कि अमावस्या के दौरान बसें चलेंगी। किसी भी दशा में यात्री बसों के ऊपर न बैठने पायें। सहायक सभ्भागीय परिवहन अधिकारी टैम्पों, टैक्सी व ई-रिक्शा पर विशेष नजर रखें। उप मुख्य  चिकित्साधिकारी एम्बुलेंस व स्वास्थ्य कैम्प लगायें। खोया पाया केन्द्र, रामघाट, यूपीटी तथा खोही ग्राम पंचायत भवन परिक्रमा मार्ग पर लगेगा। तीर्थ क्षेत्र को साफ स्वच्छ रखें। बैठक में अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चैधरी, उप जिलाधिकारी सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments