दंगाइयों पर लगी लगाम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Sunday, December 29, 2019

दंगाइयों पर लगी लगाम

देवेश प्रताप सिंह राठौर


भारत मैं नागरिकता संशोधन बिल जब से पास हुआ है उस दिन से विपक्ष के और वह नेता जिनके बलबूते पर राज्य सरकार चल रही है राज्यों की उन्होंने गलत बयान बाजी कर गलतफहमी में लोगों को दंगे भड़काने में बहुत ही आगे मदद कर रही है! आज भारत में जिन राज्यों में दंगे हुए हैं वह दंगे पश्चिम बंगाल मैं ममता बनर्जी खुद एक दंगाइयों का समर्थन में उतरी है,  कांग्रेश और बहुत से क्षेत्रीय दल जैसे सपा आज दंगाइयों के समर्थन में बवाल कराने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं,क्योंकि जानकारी के मुताबिक जिस तरह की बवाल हो रहे हैं उसमें किसी न किसी क्षेत्रीय दलों का और राष्ट्रीय पार्टी का समर्थन ही दंगे को कराने में बहुत बड़ा महत्त्व रखता है। कांग्रेस पार्टी की प्रियंका गांधी जिस तरह दंगाइयों से मिलने के लिए गई और जिस तरह पुलिस के ऊपर आरोप लगाया यह सरा सर गलत है की गला दबाया, झूठ बोलने में कांग्रेश नंबर वन पार्टी है, पुलिस जब कहीं रोकने का प्रयास करती है तो सभी अच्छे लोग रुकने का प्रयास करते हैं। जब लोग अपने पावर का दुरुपयोग करके पुलिस को धमकाने की बात कर कानून अपने हाथ में लेते है उस स्थीत में मजबूर हो कर पुलिस रोकने का प्रयास करती है। और सुरक्षा की दृष्टि से उन्हें गिरफ्तार कर या नजर बंद करना मजबूरी हो जाती है। अच्छे लोग सच्ची राजनीति करने वाले जब आपको बताना चाहते हैं देश की प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी रायबरेली के कार्यक्रम में आना था उस समय देश की प्रधानमंत्री थी लेकिन रायबरेली के जिलाधिकारी ने सुरक्षा कारणों से मना कर दिया था और जहाज रायबरेली में नहीं उतरा और वापस दिल्ली चला गया था यह एक व्यवस्था है जिलाधिकारी , के द्वारा की जाती हैं उन्हें माननीय को हर व्यक्ति को एवम् इंसान का फर्ज होता है उसमें अपने पद और कद को महत्व देते न देते हुए बात को माने ना की पुलिस को धक्का-मुक्की देकर आगे बढ़ने में पुलिस मजबूर होकर उसे रोकने का प्रयास करती है, जिसे झूठ बोलकर पुलिस के ऊपर आरोप लगाया जाता है कि गला दबा दिया जबकि दूर-दूर तक ऐसा कुछ नहीं है। काग्रेस पार्टी आज बौखला गई है वह चाहती है कि हमारी बीती हुई साख वापस किस तरह आए इसलिए पूरा

कांग्रेश मानसिक पीड़ा में है ,और सब दायित्व कर्तव्य भूल गए हैं। जब कांग्रेसी नेता जी के जमाने में थी तो कांग्रेस के आगे ब्रैकेट में लिखा होता था ( ई) अव ऐसा कांग्रेसमें कुछ नहीं लिखा होता है। आज अपने पद से भटकती हुई कांग्रेश अपने अस्तित्व को बचाने के लिए परेशान हैं ।और हर हथकंडे अपना रहे हैं कहीं भी सरकार की कमी या कुछ प्राप्त हो जाता है उसे लेकर भागने में कतई कोताही नहीं करते हैं काग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम जो वित्त मंत्री थे और गृहमंत्री थे भारत सरकार के जब यह   धन संबंधी आरोपों में लगे थे तो इनके ऊपर जब पत्रकारों ने बात की चैनलों में आ रहे थे तो कह रहे थे कि मुझे नहीं जानकारी सब आईऐएस लोग करते हैं महोदय सब आईएएस करते हैं तो आप किस बात के मंत्री हैं , आपको कोई जानकारी नहीं रहती है आपके हस्ताक्षर के बगैर ही सब कैसे पास हो जाता है। जब आपको किसी बात की जानकारी नहीं थी जानकारी सिर्फ इतनी रहती है कि हमें कितना धन कहां से मिलना है बस इसी में रहते हैं ।और उन्हें किसी से कोई देशहित से लेना-देना नहीं यह इनके बयान कांग्रेस के पार्टी के पीछे चिदंबरम के महसूस कराते हैं कि कितने गंभीर यह लोग देश हित के लिए है देश की बात आती है उस समय उन्हें देश का कुछ लोगों के चापलूसी में आकर  लोगों के पक्ष में निर्णय लेते हैं आज 2001 की बात हो 2011 की बात हो 2009 की बात हो 2018 की बात हो 2019 की बात हो जितने भी आतंकी बड़े हमले हुए हैं उसमें जितनी सर्जिकल स्ट्राइक हुई है। लेकिन कांग्रेस के कार्यकाल में नहीं हुई मोदी सरकार द्वारा ऐसा सर्जिकल स्ट्राइक किया गया पाकिस्तान भारत के ऊपर सिर्फ रोज मीडिया में आकर धमकी देता है, मैं परमाणु बम से हमला करूंगा भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री कहते हैं करो हमने परमाणु बम दीपावली के लिए नहीं रखा हैपाकिस्तान की हिम्मत नहीं है भारत की तरफ आंख उठा ले क्योंकि देश का मुखिया बड़ा मजबूत है चलाओ परमाणु बम हंपी सेक्सा छोड़ेंगे पाकिस्तान खत्म हो जाएगा यह बात पाकिस्तान भी जानता है इसीलिए अब तक शांत बैठा है जानता है कि मेरा नाम मिट जाएगा । पहले काग्रेस की सरकारें हुआ करती थीं तब पाकिस्तान धमकी देकर भारत के सब करवाता रहता था क्योंकि यह लोग कुछ प चापलूसों की बात मानते थे जैसा भी कहते थे वैसा ही करते थे।  वह देश के काम आने वाले नहीं परंतु जनता उन्हीं की सुनती थी नेता उन्हीं को बहुत तवज्जो देती है इसी कारण यह देश गर्त में जा रहा था। असदुद्दीन ओवैसी जिस तरह अनाप-शनाप भाषा बोलता है क्या पाकिस्तान में कोई अल्पसंख्यक क्या बोल सकता है जवान काट ली जाएगी पाकिस्तान के क्रिकेटर दानिश कनेरिया के ऊपर जिस तरह हिंदू होने का शाहिद अफरीदी ने जो वक्तव्य दिए उसे स्पष्ट हो जाता है कि पाकिस्तान हिंदुओं के लिए क्या सोच रखता है भारत में जितनी आजादी अल्पसंख्यकों को है उतनी आजादी यहां पर हिंदुओं को नहीं है यह स्पष्ट दिखाई देता है आने वाले समय में अगर सरकार ने जनसंख्या पर नियंत्रण नहीं किया और नियंत्रण हेतु कोई कानून या बिल पास नहीं किया तो एक दिन आएगा कि यह राष्ट्र जो अभी तक 56 राष्ट है मुस्लिम कंट्री एक भारत का भी नाम जुड़ जाएगा यह कुछ दशकों में आ जाएगी क्योंकि अभी जिस तरह से दंगा हुए पूरी सरकार प्रदेश प्रशासन हिल गया उसे कंट्रोल करने में और आज भी दंगे फसाद कड़ी सुरक्षा के बीच उनकी गुंडागर्दी चल रही है लेकिन सुरक्षा के कारण दबे हुए हैं। भारत देश एक विकसित देश होने की स्थिति में है जहां पर मैं डंके की चोट पर कह सकता हूं चाहे योगी सरकार हो चाहे मोदी सरकार हो जितना भी अल्पसंख्यकों के लिए करें आप एक वोट भी मिलने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए मुझे सर्वे के मुताबिक मैंने पूर्ण विश्वास के साथ कह सकता हूं ।आप जितनी भी योजनाएं चलाएं जितने भी प्रयोग करें सब आपके प्रयोग विफल होंगे क्योंकि यह लोग आपकी तरफ देखना भी पसंद नहीं करते हैं वोट देने की तो बहुत दूर की बात है।लेकिन फिर भी सरकार है जो आती हैं सारी दया दृष्टि इन्हीं लोगों पर बनती है इतना हिंदू गरीब है, कितना सिख गरीब  है , कितना इसाई गरीब है, कितना बौद्धबहुत गरीब है, कितना जैन गरीब है  कोई नहीं दिखाई देता है सिर्फ जो भी योजनाएं बनती है वह सिर्फ अल्पसंख्यकों के लिए अधिक बनाई जाती है। इसीलिए आज भारत में हर घर में एक बहुत बड़ी विडंबना है कि यहां पर कोई भी मकान किराए पर बिना परिचित उठा देता है। जैसे किसी को 2000 का कमरा 5000 दे रहा है तो बिना पूछे  दे देंगे, इतने लालची होते हैं उसका न रिस्टीकेशन भी नहीं करते हैं इसी तरह आतंकवादी कश्मीर से लेकर दिल्ली में जो घूम रहे हैं महीनों रहते हैं प्लानिंग करते हैं तो दो हजार का मकान दस हजार में ले लेते हैं, और लोग उनको दे देते हैं और और देश में घातक वन कर अतंकवादी  का काम करते रहते हैं।उत्तर प्रदेश सरकार ने जो भी इन दंगाइयों पर सख्त कानून उठाए हैं उसका पूरी जनता प्रदेश की सराहना करती है। और इसी तरह अन्य राज्य भी सख्ती से पेश आएं और उन्हें  इंगित करते हुए उनकी प्रॉपर्टी को जप्त करें और उन्हें कानून के दायरे में सख्त से सख्त देशद्रोही का मुकदमा चलाया जाए क्योंकि यह लोग देशहित के व्यक्ति नहीं है जबकिभारत में रहने वाले मुसलमानों को नागरिकता संशोधन बिल कोई असर होने वाला नहीं है उनकी  भारतीयता रहेंगी। लोगों के कहने पर खेती नेताओं के अपने फायदे के लिए आपको दंगे करवा रहे हैं। परंतु आप किसके लिए दंगा कर रहे हैं आप तो नागरिकता संशोधन बिल पर देश में सुरक्षित है। आप समझे और जाने जो लोग इस तरह के दंगे कर रहे हैं  इससे स्पष्ट होता है यह देश हित के व्यक्ति कभी नहीं हो सकते हैं यह देश के हित में सोच भी नहीं सकते हैं जब मेरठ में कई स्थानों पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जा रहे हैं तो यह दंगाई भारत के कैसे हो सकते हैं मेरा मानना है कि जब तक ऐसे गद्दार इस देश में रहेंगे देश कभी नहीं बन पाएगा, आतंकवाद पनपता रहेगा इस पर मोदी सरकार सख्त से सख्त कानून बनाए पहले जनसंख्या नियंत्रण पर कानून बिल पास होना चाहिए, क्योंकि यह बहुत बड़ा देश के लिए जनसंख्या जिस तरह से बढ़ रही है आने वाले समय में बहुत बड़ा खतरों का सामना होना पड़ेगा।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages