Latest News

निस्तारित करें कन्या सुमंगला योजना के आवेदन: डीएम

जिला प्रोबेशन अधिकारी के खिलाफ कार्य में रुचि न लेने पर कार्यवाही के दिए निर्देश

चित्रकूट। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मीबाई महिला सम्मान कोष, कन्या सुमंगल योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ आदि विभिन्न योजनाओं से संबंधित बैठक संपन्न हुई। जिलाधिकारी ने महिला सम्मान कोष पर जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देश दिए कि जितने भी आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं उन प्रकरणों को देखे। किस तरह के लाभ दिए जाने हैं उसमें पीड़िता या उसके परिवार को क्या लाभ मिलेगा। जिलाधिकारी ने अपर पुलिस अधीक्षक से कहा कि महिला उत्पीड़न से संबंधित मामलों पर निचले स्तर पर ठीक ढंग से कार्यवाही नहीं हो रही है। इसमें सभी थानाध्यक्षों को निर्देश जारी करे।

 ताकि संवेदनशील होकर महिलाओं के उत्पीड़न संबंधी मामलों पर कार्यवाही हो सके। मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि जो पोस्टमार्टम की रिपोर्ट लगाई जाती है वह सही रहे। इसका विशेष ध्यान दिया जाए। कन्या सुमंगला योजना की समीक्षा पर कहा कि प्रगति ठीक नहीं है। निर्धारित प्रारूप पर तीन दिन के अंदर रिपोर्ट भेजें। मुख्य विकास अधिकारी डा महेंद्र कुमार ने जिला प्रोबेशन अधिकारी से कहा कि योजनाओं पर रुचि लेकर कार्य नहीं किया जा रहा। इसलिए जनपद की रैंकिंग प्रदेश स्तर पर कम है। इस पर जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि इनके खिलाफ शासन को पत्र भेजकर कार्यवाही कराएं। बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ का प्रचार, प्रसार करायें। मेरी बेटी मेरा अभिमान की कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार कर प्रत्येक माह दो कार्यक्रम अवश्य कराएं। कन्या सुमंगला योजना के 304 आवेदन प्राप्त हुए हैं। उनमें ग्रामीण स्तर के खण्ड विकास अधिकारियों व शहर के उप जिलाधिकारियों से सत्यापन कराते हुए निस्तारण करें। ऑनलाइन स्वीकृत में ऑफलाइन भी हस्ताक्षर कर जांच की जाए। बैठक में अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चैधरी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा विनोद कुमार, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा आरके गुप्ता, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी मनोज कुमार यादव, जिला समाज कल्याण अधिकारी नीलम सिंह, प्रभारी सचिव विधिक सेवा प्राधिकरण नम्रता शर्मा सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments