Latest News

गौशाला स्थल में बैठक कर ग्रामीणों को करें जागरुक: डीएम

गौवंश आश्रय स्थलों की कमियों के संबंध में की समीक्षा
तीन दिन में रिपोर्ट न भेजी तो रुकेगा वेतन

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में गोद लिए गए गौवंश आश्रय स्थलों पर पाई गई कमियों के निस्तारण के संबंध में समीक्षा बैठक संपन्न हुई।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिन नोडल अधिकारियों ने रिपोर्ट अभी तक नहीं दिया है उनसे जवाब तलब किया जाए। अगर तीन दिन के अंदर नहीं भेजते हैं तो इस माह का वेतन रोके। खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि गांव में गौशाला संचालित की जा रही हैं उन पर सभी व्यवस्थाएं रहे तथा क्षमता के मुताबिक गोवंश रखे। भरण-पोषण की अच्छी व्यवस्था कराएं तथा प्रतिदिन गोवंश व्यवस्था की फोटोग्राफी हो और कितने गोवंश है उसको रजिस्टर में अंकित करें। टीन शेड को तीन तरफ से ढक कर रखें। नोडल अधिकारी वहां पर संबंधित कर्मचारियों को 24 घंटे रखें तथा सभी नोडल अधिकारी ग्राम वासियों के साथ गौशाला संचालन के संबंध में गौशाला स्थल पर ही बैठक करें और गांव के लोगों को जागरूक करें। जिन गौशालाओं में चरवाहे लगे हैं उनकी भी तत्काल व्यवस्था कराएं। ग्राम पंचायत स्तर के सरकारी कर्मचारियों को आठ-आठ घंटे की ड्यूटी लगाएं। किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होनी चाहिए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा महेन्द्र कुमार, जिला विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक, जिला पंचायत राज अधिकारी सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।


No comments