Latest News

जनजाति विकास मंत्री व उप मुख्यमंत्री ने कया 22वीं वनवासी क्रीडा प्रतियेागिा का शुभारंभ

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता -  अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम की 22वीं वनवासी क्रीडा प्रतियागिता 2019 का मुख्य अतिथि अर्जुन मुंडा जनजाति विकास मंत्री, भारत सरकार तथा प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा0 दिनेश शर्मा ने रविवार को पं0 दीन दयाल उपाध्याय सनातन धर्म विधालय में ध्वजारोहण एवं खेल ज्योति प्रज्जवलित कर उदघाटन किया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि अर्जुन मुंडा ने कहा कि देश के विभिन्न प्रांतो से आये खिलाडियों को इस 22वीं वनवासी क्रीडा प्रतियागिता का कानपुर में आयोजन होने पर अधिक  प्रसन्नता है, क्योकि इस प्रकार के आयोजनो से दुरूह एवं दुर्गम क्षेत्र के आये हुए खिलाडियों को अपनी प्रतिभा को प्रर्दषित करने का अच्छा अवसर मिला है। उन्होने कहा कि इन खिलाडिया कायहां पन अपनी खेल प्रतिभा, लोक कला का प्रर्दशन करना भारत के पूर्ण स्वरूप को प्रर्दशित करता है। यह खेल सांस्कृति कला का अभूतपूर्व संगम है। कहा केंद्र सरकार वनवासी क्षेत्रों के रहने वाले लोगों के लिए उनकी सुविधाओं को बेहतर करने का कार्य कर रही है। बनवासी कल्याण आश्रम द्वारा सर्मपण भाव से राष्ट्र के पर्वतीय एवं गुर्गम वनवासी क्षेत्रों के लोगों के लिए क्रीडा, शिक्षा आदि क्षेत्रों में अच्छा कार्य कर रहे है। उन्होने वनवासी क्षत्रों के लोगों के विकास के लिए आवश्यक सहायता प्रदान करने की बात कहते हुए कहा कि वनवासी क्षेत्रों के लोगों में अक शिक्षा, स्वास्थ्य एवं सांस्कृतिक कार्यो के प्रति जागरूकता के साथ आगे अपनी क्षमता को भी प्रर्दशित कर रहे है। कार्यक्रम में उ0प्र0 के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने खिलाडियों का उत्साहवर्द्धन करते तथा उन्हे प्रेरित करते हुए कहा कि खेल में हार और जीत दोनो ही होते है। महत्वर्पूण केवल जीत नही होती बल्कि पूरी लगन के साथ खेलना होता है। उन्होने इस विशाल आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि वनवासी आश्रम पूरे देश में अनूठा काम कर रहा है। वहीं प्रतियोगिता के सम्बन्ध में बताया गया कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय सनातन धर्म विधालय में आयोजित इस क्रीडा प्रतियोगिा में देश भर से खिलाडी आये है, जिसमें 40 प्रांतो के करीब 800 खिलाडी तीरंदाजी व कबडडी में हिस्सा लेंगे। मीडिया प्रभारी सुमित श्रीवास्तव ने बताया कि प्रतियोगिा में पूर्व ओलंपियन संजीव कुमार खिलाडियों के हुनर को पहचानेंगे तथा कम आयुवर्ग  के खिलाडी को चुनकर उन्हे राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए तैयार भी करेंगे।

No comments