कृषि भवन, गौशाला, अस्पताल का औचक निरीक्षण - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Friday, November 29, 2019

कृषि भवन, गौशाला, अस्पताल का औचक निरीक्षण

सफाई, रखरखाव सही न होने पर जताई नाराजगी
वृहद किसानों को योजना का लाभ दिलाने की है तैयारी
गौवंशों की मृत्यु पर पोस्टमार्टम, प्रतिदिन फोटो अपलोड करने के दिए निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। आबकारी आयुक्त/जनपद के नोडल अधिकारी पी. गुरुप्रसाद ने कृषि भवन में संचालित जिला कृषि अधिकारी, कृषि रक्षा अधिकारी, उप निदेशक कृषि, उप कृषि प्रसार अधिकारी कार्यालयों, राजकीय कृषि बीज भंडार तथा नगर पालिका कर्वी से संचालित गौशाला, ग्राम टिटिहरा में निर्माणाधीन गौशाला, मातृत्व शिशु कल्याण अस्पताल दो सौ शैय्या का औचक निरीक्षण किया।
नोडल अधिकारी ने कृषि भवन के कार्यालयों में डीबीटी सेल, मृदा परीक्षण, बीज वितरण प्रयोगशाला, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, तकनीकी कक्ष आदि का निरीक्षण किया। कार्यालय की साफ सफाई व्यवस्था ठीक तथा पुरानी प्रचार सामग्री का रखरखाव सही ढंग से न पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उप निदेशक कृषि व जिला कृषि अधिकारी को निर्देश दिए कि तत्काल व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। उन्होंने किसान सम्मान निधि के काउंटर पर खड़े किसानों से समस्याओं के बारे में जानकारी की। जिस पर ग्राम सुरसेन के राम प्रताप ने

बताया कि राजापुर के चकबंदी लेखपाल अशोक कुमार व कृषि विभाग द्वारा कोई सही जानकारी नहीं दी जा रही है कि अभी तक किसान सम्मान निधि क्यों नहीं मिली है। इस पर नोडल अधिकारी ने जिलाधिकारी से कहा कि इसकी जांच कराएं और उसमें जो दोषी पाया जाए उसके खिलाफ कार्रवाई करें। डीबीटी की जानकारी करने पर उप निदेशक कृषि टीपीश्शाही ने बताया कि सात किसानों का पैसा शेष है। जिसमें शासन स्तर से कुछ समस्या आ रही है उसके लिए पत्राचार किया गया है। निर्देश प्राप्त होते ही निस्तारण करा दिया जाएगा। किसान सम्मान निधि में अभी तक लघु सीमांत कृषकों को लाभ दिया जाता था लेकिन अब वृहद किसानों को भी इस योजना का लाभ दिलाया जाना है। जिसके लिए अभियान भी चलाया जा रहा है। उसमें छूटे हुए किसानों का सर्वे कराकर लाभ दिया जाएगा। नोडल अधिकारी ने नगर पालिका परिषद द्वारा मंदाकिनी पुल के पास संचालित गौशाला पर भरण-पोषण, पानी, टैगिंग, पशुओं की संख्या आदि की जानकारी की। जिसमें नगर पालिका के अधिकारियों ने बताया कि 156 गोवंश है। जिनके चारा-पानी आदि की व्यवस्थाएं की जा रही हैं। नोडल अधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी से कहा कि गौशालाओं में जिन पशुओं की मृत्यु हो उसका पोस्टमार्टम अवश्य करायें। गौशालाओं की प्रतिदिन फोटो खिंचवायें और जो शासन को गोवंश की सेवा करने वाले मजदूरों की मजदूरी का पत्र लिखा गया है उसे उपलब्ध कराएं। बेसहारा गोवंश के चारा भूसा की जो व्यवस्था कराई जा रही है उसमें टेंडर, कोटेशन अवश्य करायें। पशु चिकित्सक गौशालाओं में गोवंशों का इलाज प्रतिदिन करें। जिलाधिकारी ने नगर पालिका के अधिकारियों को निर्देश दिये कि प्रतिदिन गोवंशों की फोटो खींचकर कम्प्यूटर पर अपलोड कर पिं्रट पत्रावली में रखें।
तत्पश्चात नोडल अधिकारी ने ग्राम टिटिहरा में संचालित गौशाला का निरीक्षण किया। जिसमें ग्राम प्रधान ने चारा-भूसा के भुगतान की मांग की। इस पर नोडल अधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए इनका भुगतान तत्काल करायें और जो इंटरलांकिंग का कार्य जो शेष है उसे कार्यदायी संस्था से कार्य को पूर्ण करायें। इसके बाद दो शैय्या अस्पताल के निरीक्षण के दौरान कार्यदायी संस्था को निर्देश दिये कि जो कमियां हैं उनको तत्काल पूर्ण कराकर हैण्डओवर कराएं। ताकि अस्पताल संचालित कराया जा सके। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा महेन्द्र कुमार, उप जिलाधिकारी अश्विनी कुमार पाण्डेय, जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी, परियोजना निदेशक अनय कुमार मिश्रा सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages