Latest News

जनसामान्य की सहभागिता से संभव होगा नदियों का संरक्षण: डीएम

मंगलवार की शाम को केन घाट पर किया गया केन जल आरती का आयोजन 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । नदियां जीवनदायिनी हैं। नदियों के प्रति अपनत्व तथा आदर भाव पैदा करने के लिए जनपद बांदा में ‘‘केन जल आरती’’ का शुभारम्भ किया गया है। जनपद बांदा में केन, यमुना तथा बागे मुख्य नदियां हैं तथा इन नदियों के संरक्षण पर विशेष ध्यान दिये जाने की आवश्यकता है। नदियों का संरक्षण जनसामान्य की सहभागिता से ही संम्भव है।
जिलाधिकारी हीरा लाल ने उपरोक्त विचार केन नदी के किनारे जल आरती के उपरान्त जनसामान्य को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि बांदा शहर मेें केन नदी के पानी की ही आपूर्ति होती है तथा केन से ही हमें पीने तथा नहाने के लिए पानी मिलता है। इसके साथ ही जो हम अन्न तथा फल खाते हैं वो भी हमें केन नदी तथा केन नहर के पानी की सिंचाई से प्राप्त होते हैं। उन्होंने कहा कि यह हमारा कर्तव्य है कि हम नदियों को गन्दा न होने दें क्योंकि नदियों से ही हमें खुशहाली प्राप्त होती है। श्री हीरा लाल ने कहा कि केन नदी को संस्कृत में कर्णवती कहा  जाता है तथा इसका उद्गम कैमूर पहाडियों के उत्तरी ढाल से हुआ है। इस नदी का
केन नदी में जल आरती करते डीएम हीरालाल
मुहाना कैमूर क्षेत्र ग्राम अहिरगवां जिला कटनी मध्य प्रदेश में स्थित है। कैमूर पहाडियों से निकलकर यह बुन्देलखण्ड से गुजरती हुई जनपद बांदा में गुजरती है। जिलाधिकारी ने कहा कि जिस प्रकार माता-पिता हमारा पालन पोषण करते हैं ठीक उसी प्रकार नदियां भी हमारा पालन-पोषण करती हैं इसलिए नदियों के किनारे जाकर हमें जल के महत्व को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि नदियों के किनारे जाने से जीवन से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है तथा सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

जिलाधिकारी ने कहा कि जल संरक्षण के महत्व को समझाने तथा नदियों के प्रति आदर व सम्मान का भाव पैदा करने के लिए ही जल आरती का शुभारम्भ किया गया है तथा अब प्रत्येक मंगलवार को जल आरती आयोजित की जायेगी। उन्होंने कहा कि यमुना तथा बागे नदी में भी जल आरती का शुभारम्भ शीघ्र कराया जाएगा। जल आरती के पूर्व बडी संख्या में लोंगो ने नौका विहार किया। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 संतोष बहादुर ंिसंह, अपर जिलाधिकारी न्यायिक संजय कुमार, नगर मजिस्टेªट प्रदीप कुमार, उप जिलाधिकारी सदर सुरजीत सिंह, उप जिलाधिकारी नरैनी वंदिता श्रीवास्तव, उप जिलाधिकारी पैलानी मंसूर अहमद, उप जिलाधिकारी अतर्रा सौरभ शुक्ला, उप जिलाधिकारी बबेरू महेन्द्र प्रताप, अतिरिक्त मजिस्टेªट जे0पी0यादव, उप निदेशक सूचना भूपेन्द्र सिंह यादव, अधिशासी अधिकारी नगरपालिका तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी/ कर्मचाारी, विभिन्न विद्यालयों के प्रधानाचार्य, अध्यापक, छात्र-छात्रायें, गणमान्य व बुद्धिजीवी नागरिक उपस्थित रहे। 

No comments