Latest News

आबादी के बीच चट्टा संचालन से संक्रामक बीमारियों का खतरा

पूर्व डीएम ने शहर से किया बाहर,जाते ही दोबारा हुए कब्जे
गंदगी व सड़ांध से लोगों का जीना हुआ दुश्वार

फतेहपुर, शमशाद खान । शहर को साफ सुथरा व सुंदर बनाए जाने के लिए पूर्व जिलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह द्वारा किये गए प्रयासों को नगर पालिका परिषद की लचर कार्यशैली से तिलांजलि दी जा रही ही। शहर के ज्वालागंज क्षेत्र के घोसियाना में तत्कालीन जिलाधिकारी रहे आंजनेय कुमार सिंह द्वारा शहर के अंदर चल रहे चट्टा को बाहर कर सरकारी जमीन को कब्जा से मुक्त कराया था लेकिन डीएम के स्थानांतरण के बाद एक बार फिर से चट्टा संचालन शुरू कर दिया है। जिससे आस पास गंदगी का ढेर होने के साथ-साथ डेंगू, मलेरिया समेत

घुसियाना मुहल्ले में चट्टा संचालकों द्वारा फैलायी गयी गन्दगी का दृश्य। 
अन्य संक्रनित बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। वहीं समय से सफाई व्यवस्था न होने से नगर पालिका परिषद द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान की साख को बट्टा लगाया जा रहा है। पूर्व में जिलाधिकरी रहे आंजनेय कुमार सिंह ने मोहल्लेवासियों की शिकायत पर चट्टा संचालको पर कार्रवाई करते हुए सरकारी जमीन को खाली कर चट्टो को शहर के बाहर ले जाने के निर्देश दिए थे। डीएम की करवाई से चट्टा मालिकों को शहर से बाहर जाना पड़ा था लेकिन डीएम के स्थानान्तरण के बाद एक बार फिर से चट्टा संचालको के हौसले बढ़ गये और सरकारी व्यवस्था को धता बताते हुए पूर्व में खाली की जगह पर पुनः काबिज होंकर चट्टो को एक बार फिर शुरू कर दिया गया। आबादी के बीचों बीच भैंस के चट्टो से उठने वाली सडांध व सड़को पर फैली गंदगी से आस पास के रहने वाले लोगों का जीना मुहाल हो गया है और लोग गंदगी के बीच से होकर निकलने को मजबूर है। मोहल्लेवालों की शिकायत करने के बाद भी नगर पालिका परिषद द्वारा सफाई की नियमित व्यवस्था तक नही कराई जा रही। नियुक्त सफाई कर्मी केवल औपचारिकता निभाकर चलते बनते है। जिससे मोहल्लेवासियों में आक्रोश व्याप्त है। गंदगी के कारण क्षेत्र में मच्छरों की भरमार हो गयी है। डेंगू व मलेरिया जैसी बीमारियो ने बड़े पैमाने पर पैर पसारना शुरू कर दिया है। शहर के घनी आबादी में गंदगी का अंबार देखकर नगर पालिका परिषद व जिला प्रशासन की संजीदगी का अंदाजा लगाया जा सकता है।

No comments