Latest News

भाजपा जिलाध्यक्ष पद पर रामेंद्र सिंह की ताजपोशी

दावेदारों की तिकड़मबाजी नहीं आयी काम

उरई (जालौन)। भारतीय जनता पार्टी में चल रहे संगठन चुनाव के अंतिम चरण में पिछले दिनों जिलाध्यक्ष पद को लेकर सत्रह दावेदारों ने नामांकन पत्र दाखिल किये थे। जिन्हें लेकर जिला चुनाव अधिकारी लखनऊ प्रस्थान कर गये थे। लेकिन इसके पद जिलाध्यक्ष पद हासिल करने के लिये सभी दावेदार अपने-अपने तरीके से जुटे रहे। इसी बीच देर रात को भाजपा हाईकमान ने प्रदेश के कई जनपदों के जिलाध्यक्षों की लिस्ट जारी की जिसमें जनपद जालौन से छात्र जीवन से विद्यार्थी परिषद से जुड़कर राजनीति करने वाले रामेंद्र सिंह बना जी को नया जिलाध्यक्ष घोषित किया गया।

गौरतलब हो कि भाजपा में जिलाध्यक्ष पद को लेकर जहां वैश्य समाज सक्रियता से जुटा हुआ था तो वहीं ब्राह्मण समाज के नेता भी जिलाध्यक्ष पद कब्जा करना चाहता था। इसी बात को लेकर भाजपा के अंदरखाने में खींचतान का दौर शुरू हो गया था। इस बात की भनक प्रदेश हाईकमान को मिलते ही उसने भी अपनी रणनीति में बदलाव कर समूचे प्रदेश में जिलाध्यक्ष पद को लेकर नामांकन तो जिला मुख्यालय में कराये गये और सभी जिला चुनाव अधिकारियों को नामांकन पत्र लेकर सीधे लखनऊ कार्यालय पहुंचने के निर्देश दिये गये थे। बीती देर रात भाजपा हाईकमान ने प्रदेश के अधिकतर जनपद के भाजपा जिलाध्यक्षों के नामों की लिस्ट जारी की जिसमें जनपद जालौन में रामेंद्र सिंह बनाजी को नया जिलाध्यक्ष बनाया गया। इसी के साथ पार्टी के अंदर निकाय चुनाव के दौरान जो गुटबाजी उभरी थी उस पर भी विराम लगाने का प्रयास किया गया है। लेकिन निकाय चुनाव में जो बगाबत का खेल चला उसको लेकर पार्टी के ब्राह्मण समाज नेता आज भी आहत नजर आते हैं। ऐसी स्थिति में पार्टी ने ब्राह्मण व वैश्य समाज के किसी भी नेता को जिलाध्यक्ष न बनाकर सीधा संदेश भी दिया गया था। वैसे भी नव मनोनीति जिलाध्यक्ष रामेंद्र सिंह छात्र जीवन से ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़कर राजनीति की ककहरा सीखने के बाद भारतीय जनता युवा मोर्चा में भी रहकर सक्रिय राजनीति करते रहे। यही कारण रहा कि पार्टी हाईकमान ने रामेंद्र सिंह बना जी के नाम पर सहमति देकर नया संदेश देने का काम किया।


No comments