Latest News

रानी ताई बाई की प्रतिमा लगवाने की समाजसेवियों ने की मांग

जालौन (उरई), अजय मिश्रा । शुक्रवार को नगर के दर्जनों समाजसेवियों ने नगर पालिका परिषद अध्यक्ष गिरीश गुप्ता को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें मांग की गई की जालौन नगर ऐतिहासिक नगर रहा है जिस की रानी ताई बाई ने 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में वीरता का परिचय देते हुए जिला जालौन से अंग्रेजी हुकूमत को उखाड़ फेंका था और अदम्य वीरता का परिचय दिया था इतना ही नहीं एक समय था जब पूरे बुंदेलखंड राज्य का संचालन जालौन नगर से ही होता था। ऐसी महिला वीर योद्धा की प्रतिमा जालौन नगर में लगवायी जाये।
लेकिन आज विडंबना यह है कि नगर जालौन तथा नगर की रानी ताई बाई के इतिहास का अस्तित्व समाप्त होता

चला जा रहा है आज हम समस्त नगरवासी ज्ञापन के माध्यम से मांग करते हैं कि रानी ताई बाई की याद में उनकी प्रतिमा नगर जालौन में लगवाई जाए तथा उनके नाम पर एक पार्क का निर्माण करवाया जाए जिससे जालौन नगर तथा रानी ताई बाई का इतिहास हमारी आगे आने वाली पीढ़ी भी जान सके और अपने आप में गर्व महसूस कर सके। इस अवसर पर बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा के जिला अध्यक्ष प्रदुम दीक्षित इटहिया ने कहा की जिस भूभाग का इतिहास जितना श्रेष्ठ होता है उस भू-भाग के निवासी उतने ही श्रेष्ठ और वीर होते हैं। आज जरूरत है अपने इतिहास को यादगार बनाने के लिए इसके लिए आगे आने वाले समय में स्टेचू ऑफ ताइवान मूवमेंट चलाया जाएगा और प्रत्येक स्थिति में रानी ताई बाई की प्रतिमा के लिए आंदोलन किया जाएगा क्योंकि जब हमारे नगर के इतिहास का अस्तित्व नहीं रहेगा तो हमारा क्या अस्तित्व होगा। इस अवसर पर उपस्थित लोग प्रद्युम्न दीक्षित, छविराम यादव, चंद्रशेखर विश्वकर्मा, नितिन पटेल, लखन भदौरिया मोहम्मद अयूब मोहम्मद आफताब शरीफ बसी पत्रकार, जगदीश वर्मा, गोविंद राजपूत, संतोष कुमार सक्सेना, राजा भैया दोहरे ताज मोहम्मद मोहम्मद मुकीम आदि दर्जनों लोग मौजूद रहे।

No comments