Latest News

प्रशासनिक सख्ती के बाद भी आधा दर्जन आवासों पर जमे हुए है कर्मचारी

शिकोहाबाद के जिला अस्पताल परिसर का मामला  
महिला चिकित्सालय की भी चाबी उन्हें नहीं मिली -  सीएमएस 
प्रशासन की सख्ती के बाद कुछ आवास हो गए है खाली 

फिरोजाबाद, विकास पालीवाल  ।  जिला संयुक्त चिकित्सालय शिकोहाबाद  में कई वर्षों से अवैध रूप से कई डॉक्टर व कर्मचारी आवासों को घेरे हुए थे तथा हॉस्पिटल में तैनात ना होने के बावजूद इन आवासों में धड़ल्ले से रह रहे थे।  इसके बाद पिछले दिनों शिकायत के बाद प्रशासन ने संज्ञान लिया तथा चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि इन आवासों को तुरंत खाली कराए जाएं तथा नोटिस भी जारी किए गए । इसके बाद पिछले माह 23 अक्टूबर की तारीख देते  हुए सभी को आवास खाली कराने की आदेश दिए गए थे, लेकिन इसके बावजूद अभी भी कुछ  आवासों पर कुछ कर्मचारी रह रहे हैं । जबकि इन लोगों की तैनाती अन्य स्थानों पर हो चुकी है । ऐसे में देखना होगा कि इन आवासों को प्रशासन कब खाली करवाता है ?   जबकि यहां के सीएमएस का कहना है कि उन्होंने जिलाधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी को इस संबंध में अवगत करा दिया गया है। वहीं उनके यहां के सभी लोगों ने आवास खाली कर दिए है।  वहीं महिला चिकित्सालय की बिल्डिंग भी अभी अस्पताल प्रशासन को धनपुरा पीएचसी द्वारा हेंडओवर  नहीं की गई है।  
 
महिला चिकित्सालय, जो अभी धनपुरा पीएचसी के कब्जे में ही है ।
    जिला संयुक्त चिकित्सालय शिकोहाबाद में लगभग डेढ़ दर्जन आवासों पर यहां पर कुछ साल पूर्व तक तैनात रहे डॉक्टर व कर्मचारियों का कब्जा है,  जिसके बाद कई शिकायतों के बाद जिला प्रशासन ने इन लोगों को नोटिस जारी किए थे तथा 23 अक्टूबर की तारीख मुकर्रर करते हुए आवास  खाली कराने के निर्देश दिए थे, जिसके बाद  अस्पताल प्रशासन ने मुनादी करवा दी गई थी। इसके बाद कई कर्मचारियों ने आवास खाली कर दिए तथा 6 आवास अभी भी कर्मचारियों द्वारा खाली नहीं किए गए।  इन आवासों पर अभी भी आउट साइडर यानी अन्य अस्पतालों में तैनात  लोग रह रहे जब कि लोगों की तैनाती फ़िरोज़ाबाद, धनपुरा, मदनपुर तथा अन्य स्थानों पर है ।  अब एक बार फिर से अस्पताल प्रशासन स्थानीय प्रशासन इन पर सख्त होने जा रहा है । इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ श्याम मोहन गुप्ता से बात की गई तो उनका कहना था कि प्रशासन की सख्ती  के बाद उनके यहां के कर्मचारियों द्वारा पहले ही खाली कर दिए गए है। वहीं आधा दर्जन आवास अभी भी अन्य तैनाती स्थलों के कर्मचारियों घेरे हुए है। उन्होंने इसकी जानकारी जिलाधिकारी व  अपने उच्च अधिकारियों को दे दी है ।  वही जब उनसे महिला चिकित्सालय की  बिल्डिंग के बारे में जानकारी की तो इस संबंध  उनका कहना था कि इस बिल्डिंग की चाबी अभी भी उन्हें नहीं मिली है क्योंकि इस बिल्डिंग में धनपुरा पीएचसी  द्वारा कुछ वर्षों से कार्य किया जा रहा था।  

No comments