Latest News

सिंचाई में उपयोग होने वाले पानी की होगी 80 प्रतिशत तक बचत

रेन इरीगेशन सिस्टम से खेतों में फसलों के लिए लगेगा कम पानी

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - यदि फसलों को सही समय से पानी न मिले तो उसका असर फसलों और किसानो पर पडता है। किसान समय से पानी लगाने के लिए हर संभव प्रयास करते है। पानी लगाने में नहर या ट्यूबबेल का प्रयोग किया जाता है और ऐसे में काफी पानी की बर्बादी भी होती है, इसका एक बेहतर उपाय नये उत्पाद वीके रेन इरीगेशन सिस्टम द्वारा निकाला गया है, जिसे शुक्रवार को प्रदर्शित किया गया। कार्यक्रम का शुभांरभ चन्द्रशेखर आजाद कृशि विश्वविधालय के कुलपति डा0 सुशील सोलेमन द्वारा किया गया तथा इस दौरान


बताया गया कि इस वीके रेन इरीगेशन सिस्टम में किसानो को बहुत कम लागत में महाटिकाऊ और समय से संतुलित सिंचाई प्रदान होती है। वीके पैक वेल प्रा0 लि0 केरिसर्च व डेवलपमेंट विभाग ने फील्ड ट्रायल के साथ इसका निर्माण किया गया। बताया गया यह रेल सिस्टम स्प्रिंकलर सिंचाई का विकल्प है, जो फसलों में पानी का समान रूपसे एवं बहुत कम समय में अत्याधिक गति से छिडकाव करता है तथा इसे लगाना व समेटना आसान है साथ ही आसानी से इसे कहीं भी ले जाया जा सकता है। बताया गया कि वीके रेन इरिगेशन सिस्टम उचित पानी के दबाव की मदद से दायीं और बायीं तरफ 20 फिट तक सिंचाई करता है तथा इसे 1 हैक्टेयर भूमि में सिंचाई के लिए लगाया जा सकता है।

No comments