Latest News

दो दिन में राष्ट्रपति से मिलेंगे 108 लोग,

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के कानपुर आगमन पर उनके मिलने वालों की लंबी सूची है। 30 नवंबर को सीएसजेएमयू और एक दिसंबर को सर्किट हाउस में 108 लोगों का नाम उनसे मिलने वालों में शामिल है। इनमें रामनाथ कोविंद के साथ पढ़ने वाले, उनके रिश्तेदार, कई राजनीतिक दलों के लोग, शिक्षक, उद्यमी, चिकित्सक प्रमुख हैं। कानपुर और राष्ट्रपति के गांव झींझक के रहने वाले 68 लोग 30 नवंबर की शाम को ही सर्किट हाउस में उनसे मुलाकात करेंगे। कुछ लोग लखनऊ से भी आएंगे। 
कानपुर मेट्रो पर चर्चा करेंगे कोविंद
कानपुर गौरव शुक्ला:- राष्ट्रपति महानगर में शुरू हो रही मेट्रो सेवा को लेकर भी चर्चा करेंगे। इसके लिए उन्होंने यूपी मेट्रो रेल कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक कुमार केशव को मिलने के लिए बुलाया है। माना जा रहा है कि वह मेट्रो को लेकर कुछ सुझाव दे सकते हैं। कुमार केशव के नेतृत्व में ही पहले लखनऊ मेट्रो परियोजना का निर्माण हुआ। अब कानपुर में इसका निर्माण चल रहा है।

भाभी और रिश्तेदार भी आएंगे मिलने
राष्ट्रपति की बड़ी भाभी विद्यावती कोविंद, इनकी दोनों बेटिया हेमलता और कंचनलता, विद्यावती के दोनों दामाद भी मुलाकात करेंगे। इन लोगों को 30 नवंबर को दिन में साढ़े तीन बजे कानपुर विश्वविद्यालय बुलाया गया है। इसी समय उरई जालौन के तरुन तिवारी भी मिलेंगे।

तरुन उस समय से रामनाथ कोविंद के परिचित हैं जब वह 2014 में लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रहे थे। सांसद देवेंद्र सिंह भोले के चाचा 81 वर्षीय त्रिभुवन सिंह, कोविंद के भांजे रामशंकर और उनके परिजन एक दिसंबर को सर्किट हाउस में मिलेंगे।

विपश्यना के ट्रस्टी भी करेंगे मुलाकात
राष्ट्रपति से मिलने वालों में सरसौल स्थित विपश्यना केेंद्र के ट्रस्टी अशोक कुमार साहू, अवधेश कुमार शाहू भी शामिल हैं। बर्रा स्थित नित्येश्वर उदासीन आश्रम के स्वामी योगेंद्र मुनि जी महाराज भी मुलाकात करेंगे। राष्ट्रपति का इस आश्रम से 2001 से नाता है।

बीएनएसडी में रामनाथ कोविंद के साथ पढ़ने वाले 77 वर्षीय विद्या सागर शर्मा, डीएवी कालेज का छात्र अंकित मिश्रा भी मिलेगा। अंकित उस समय बीएनएसडी विद्यार्थी परिषद का अध्यक्ष था, जिस वर्ष कोविंद राष्ट्रपति बने थे। अंकित के नेतृत्व में राष्ट्रपति का सभी छात्रों ने स्वागत किया था। 

साहित्यकाराें की टीम भी मिलेगी
राष्ट्रपति से मिलने वालों में साहित्यकारों की टोली भी शामिल है। नीलांबर नाथ कौशिक, डा राजेश कुमार शुक्ला, हिंदी प्रचारिणी समिति के प्रधान डा. राजीव रंजन पांडेय, अरविंद वाजपेयी के अलावा राजेंद्र नाथ भदौरिया, उद्यमी गोविंद भार्गव, एडवोकेट सज्जन सिंह सहित अनेक लोग शामिल हैं।

No comments